On-Page SEO क्या है On-Page SEO कैसे करते है Hindi [2021]

On-Page SEO क्या है On-Page SEO कैसे करते है Hindi [2021]

जो Changes आप अपने वेबसाइट में करते है उसे सर्च इंजन फ्रेंडली बनाने के लिए उसे ही On -Page SEO कहते है |

अगर आपकी वेबसाइट सर्च इंजन फ्रेंडली होगी तो सर्च इंजन Bots/Crawlers को आपके साइट को समझने (Crawl) में आसानी होगी जिसे आपके साइट के नेचर और बिज़नेस को सर्च इंजन आसानी से समझ सकता है

अगर आपके वेबसाइट का On -Page SEO प्रॉपर है तो सर्च इंजिन्स आपकी वेबसाइट को बहोत अच्छे से समझ सकते है और इसे आपकी रैंकिंग अच्छे होने के चान्सेस बढ़ जाते है | On -Page SEO में बहोत सारे टर्म्स यूज़ होते है, उन सभी टर्म्स पर हम डिटेल में बात करेंगे |

1. Title tag:

Title tag एक HTML एलिमेंट होता है जो आपके ब्लॉग के Title को दर्शाता है | Title tag एक clickable हैडिंग होता है, जो सर्च इंजन रिजल्ट पेज (SERPs) में दिखाई देता है ये बहोत महत्पूर्ण होता है SEO, और सोशल शेयरिंग में | Title tag किसी भी वेबसाइट या वेब पेज का सटीक और संक्षिप्त वर्णन करने के लिए होता है।

      <head> <title>Search Engine Goals</title></head>   

On page Seo Title tag

 

Effective Title tag:

 1. Keyword usage:

Title tag में अगर टारगेटेड Keyword को आप उसे करते है तो इसे सर्च इंजन क्रॉलर और यूजर दोनों आपके कंटेंट को पेज के समझ सकते है | कीवर्ड्स जितने Title tag के पास होंगे यूजर के क्लिक करने के चान्सेस और बढ़ जाते है |

2. Branding:

मैं हमेशा अपने ब्रांड कीवर्ड को Title tag में यूज़ करने की कोसिस करता हु इसे लोगो को मेरे ब्रांड के बारे में पता चलता है और जिन लोगो को पहले से मेरे ब्रांड के बारे में पता है वो मेरे ब्रांड कीवर्ड को देख कर उस पर जरूर क्लिक करते है जिसे साइट का CTR बढ़ जाता है |

3. Title tag लम्बाई:

Google आमतौर पर Title tag के पहले 50-60 वर्ड्स दिखता है यदि आप अपने Title को 60 वर्ड्स के नीचे रखते हैं तो आप अपने title के 90% वर्ड्स को दिखा पाएंगे क्यूंकि हर सब्द का अलग-अलग पिक्सेल साइज होता है गूगल में आप सिर्फ 600 पिक्सेल तक ही Title टैग ( वर्तमान में ) को दिखा सकते है |

आपका Title वेब ब्राउज़र के टैब में भी दिखाई देता है और एक प्लेसहोल्डर की तरह दिखाई देता है विषेस तौर पर जब कोई बहोत सारे टैब्स खोल के काम करता है तो उसे आपका यूनिक Title और कीवर्ड आसानी से दिख जायेगा जिसे वो आपके पेज को आसानी से पहचान सकता है |

Social नेटवर्क्स:

जब आप सोशल मीडिया पर अपने वेबसाइट या पोस्ट के URL को शेयर करते है तो आपके Title का इस्तेमाल करते है | कुछ सोशल साइट्स ( eg; Facebook, Twitter ) आपको मैन Title के अल्वा दूसरा टाइटल दिखाने का ऑप्शन देते है जिसे आप कस्टमाइज करके दिखा सकते है |Social Sharing On page seo

नोट: Title tag में keyword stuffing ना करे, keywords का ऐसे यूज़ करे जिसे आपका कंटेंट फार्मेशन ख़राब ना हो |

2. Meta Description:

Meta Description एक HTML attribute होता जो आपके वेबपेज या पोस्ट का विस्तार से वर्णन करता है जिसे गूगल Title टैग के निचे दिखता है, जो आपके CTR ( Click Through Rate ) को बढ़ाता है |

Meta Description on page seo

Meta Description लम्बाई:

Meta Description 120-160 वर्ड्स के बिच में लिख सकते है आपको कोसिस करना चाहिए की आप पूरा 160 वर्ड्स ( 920 पिक्सेल ) का लिखे | Meta description का रैंकिंग से कोई डायरेक्ट लेना देना नहीं है Meta Description कंटेंट को SERPs में यूजर के सामने “advertise” करने का मौका देता है जिसे यूजर ये सुनिश्चित करता है की उसे क्लिक करना चाहिए या नहीं जो query वो सर्च कर रहा है वो इसमें है की नहीं |

   <meta name="description" content="A page's description,
        160 words or (920 Pixels)."/   

Google रैंकिंग फैक्टर: Google ने 2009 में ही announce कर दिया था की Meta Description और Meta keywords का रैंकिंग से कोई लेना देना नहीं है |

3. URL Structure:

जितना हो सकता है URL को Simple, readable और छोटा रखना चाहिए | अगर आपके URL में बहोत सारे पैरामीटर्स होंगे तो Google bot को आपका साइट crawl करने में मुश्किल होगा और आपका अधिक crawl बजट इसी में ख़तम हो जायेगा जिसे हो सकता है की आपकी website पूरी तरह से index ना हो |

       https://searchenginegoals.com/web-2-0-in-hindi/

अगर आपकी वेबसाइट WordPress में है तो आपको Permalinks में आपको “Post” ऑप्शन को सेलेक्ट करना है जिसे आपके Url में आपका पोस्ट Title आ जायेगा आप इसे भी कस्टमाइज कर सकते अगर आपको लगता है की आप इसे और सिंपल या छोटा बना सकते है | अगर आपका URL Structure अच्छा होता है तो कभी-कभी Anchor टेक्स्ट जगह ये ही काम करता है |

Permalinks on page seo

4. Keywords in URL:

अगर आपका पेज एक specific कीवर्ड या टर्म को टारगेट कर रहे है तो उसे URL में टारगेट करना ना भूले लेकिन इसका मतलब ये नहीं है की आप URL में सिर्फ कीवर्ड स्टफ करके उसे बोहोत बड़ा बना दे | नेचुरल तरीकें से URL को कीवर्ड में टारगेट करें |

          https://searchenginegoals.com/advance-backlinks-strategy/

5. Header tags:

Header tags HTML element होते जो वेब पेज में टाइटल को दिखाने के लिए यूज़ करते है, मेन Header tag को H1 टैग कहते है जो पेज के मेन टाइटल के लिए रिज़र्व होता है आप निचे देख सकते है H1 tag कैसे मेन Title के लिए यूज़ होता है |

         <h1>Page Title</h1>        

इसके अलावा भी H2 – H6 तक Sub-headings होते है जिनका आप पोस्ट में यूज़ कर सकते है इन सभी टैग्स का यूज़ करना जरूरी नहीं है H1 तो पहले ही Title टैग के लिए रिज़र्व होता है आप H2 और H3 का frequently यूज़ कर सकते है | इनसे आपके रैंकिंग पर डायरेक्ट कोई फरक नहीं पड़ता है लेकिन इससे पेज वेल Organised हो जाता है और पेज का लुक & फील बढ़ जाता है |

6. Internal linking:

Website के Crawlability में Internal linking का एक पार्ट होता है अगर आपके सारे page आपस में एक दूसरे से जुड़े हुए है तो crawler सभी pages को अच्छे से Crawl कर सकता है और सभी pages गूगल में आसानी से इंडेक्स हो सकता है | ऐसा करने से आप ये सुनिश्चित कर लेते है की Crawler आपके साइट के सभी pages तक पहुंचेगा | इसे आपके एक page की Authority (Link Juice ) आपके दूसरे pages में भी पास होती है |

[ Advance Backlink Strategy ]

आपको Internal linking का महत्पूर्ण समझ आ गया होगा, लेकिन बहोत अधिक linking भी नहीं करना की जिसेस गूगल इसे स्पैमिंग समझने लगे | उतना ही लिंकिंग करे जितने की जरूरत है |

7. Anchor text:

Anchor text जिसे आप एक पेज को दूसरे पेज से जोड़ते है उसे कहते है आप निचे देख सकते है की एक hyperlink लिंक और एक hyperlink लिंक Anchor text के साथ कैसा दिखता है |

<a href="http://www.searchenginegoals.com/"></a> 

   http://www.searchenginegoals.com/
<a href="http://www.example.com/" title="Search Engine Goals">
Search Engine Goals</a>

   Search Engine Goals        

Anchor text ही गूगल को signal देते है की डेस्टिनेशन पेज पर कैसा कंटेंट होगा, जैसे की अगर में अपने पेज पर “Advance Backlink Strategy” को Anchor text बनाता हु तो गूगल के लिए एक अच्छा Signal है की डेस्टिनेशन पेज बैकलिंक्स बेस्ड होगा |

Anchor text keyword रैंक करवाने का सबसे बढ़िया तरीका है आप जिस कीवर्ड पर Anchor text अधिक बनाएंगे उस keyword पर आपकी साइट रैंक होने लगती है लेकिन आपको Exact Match keywords पर बहोत अधिक Anchor text नहीं बनाना वर्ना गूगल को ऐसा लगेगा की आप रिजल्ट को Manipulate करने की कोसिस कर रहे है | इसीलिए Anchor text एक ratio में बनाए जिसमें अलग अलग कीवर्ड्स को टारगेट करे |

नोट: रैंक बढ़ाने के लिए आपको External Links पर भी Anchor text बनाना जरूरी है क्यूंकि आप Internal Linking से सिर्फ लिमिटेड Anchor text ही बना सकते है अगर आप बहोत अधिक Anchor text अपने पेज पर बनाते है तो आपका यूजर एक्सपीरियंस प्रभावित हो सकता है |

8. Image optimization:

Image साइज आपके वेबसाइट के स्पीड का सबसे बड़ा दुश्मन है, इसे बचने के लिए आपको कोई भी Image अपने साइट पर लोड करने से पहले आपको उसे कंप्रेस्ड( compress ) कर लेना चाहिए | इसके लिए आप टूल्स की हेल्प ले सकते है जिनसे आप अपने Image के साइज को कंप्रेस करके घटा सकते है |
आप को इस बात का ध्यान भी रखना है की अगर साइट प्रोडक्ट्स, ग्राफ़िक्स या एनीमेशन से रिलेटेड है तो आपको इमेज को बहोत करेफुल्ली कंप्रेस्ड करना पड़ेगा जिसे उसकी क्वालिटी इम्पैक्ट ना हो वरना आपका यूजर एक्सपीरियंस ख़राब हो सकता है | इसके अलावा अगर आपकी साइट ब्लॉगिंग या किसी और निच से रिलेटेड है जिसमें Image क्वालिटी कोई खास मैटर नहीं रखती है तो उसे मैक्सिमम कंप्रेस कर सकते है |

Image Format:

i ) अगर आपको एनीमेशन Image की जरूरत है आप GIF का उसे करे |

ii ) अगर आपको हाई resolution image की जरूरत नहीं है तो आप JPEG फॉर्मेट का यूज़ करे |

iii ) अगर आपको हाई image resolution की जरूरत है तो आप PNG का यूज़ करे |

  • आपके Image में बहोत सारे कलर्स है, PNG-24 का यूज़  करें |
  • आपके Image में कम कलर्स है, PNG-8 का यूज़ करें |

Image Format के बारे में और अधिक जाने के लिए आप गूगल के इमेज ऑप्टिमाइजेशन गाइडलाइन्स को देख सकते है

Image Thumbnail को ऑप्टिमाइज़ करना ना भूले जो सबसे अधिक पेज को स्लो करता है Thumbnail को प्रोपरली ऑप्टिमाइज़ करे पेज को स्लो स्पीड से बचाने के लिए जिसे साइट पर ज्यादा ट्रैफिक आ सके |

9. Alt text (alternative text):

Alt text का यूज़ इसलिए किया जाता है की अगर कभी किसी वजह से ब्राउज़र में इमेज लोड ना हो तो यूजर Alt text को देख के समझ जाए की image किस चीज़ के बारे में है | सर्च इंजन Bots भी आपके Image के Alt text को ही crawl करते है उसे समझे के लिए जो आपके लिए एक एक्स्ट्रा बेनिफिट है सर्च इंजन में रैंकिंग के लिए |

इस बात का ध्यान रखे की Alt text यूजर को नेचुरल लगना चाहिए, कीवर्ड स्टफींग करने से बचे |

सही:   

<img src="Advance Backlink Strategy " alt="Advance Backlink Strategy For Off-Page">

गलत:   

<img src="On-Page Seo " alt="On-Page Seo, Seo On-Page , Seo">

10. प्रोटोकॉल्स ( HTTP vs HTTPS ):

प्रोटोकॉल आपके डोमेन नेम से पहले “http” या “https” को कहते है गूगल ने सभी साइट्स के लिए HTTPS (the “s” in “https” stands for “secure”) प्रोटोकॉल का होना कर दिया है | आपको अपने साइट में SSL (Secure Sockets Layer) certificate जरूर उसे करना चाहिए | SSL certificate आपके साइट के डाटा को encrypt कर देता है | SSL यूजर के वेब सर्वर और ब्राउज़र के बीच के डाटा को सिक्योर रखता है । July 2018, से गूगल Chrome HTTP प्रोटोकॉल वाले साइट्स को “not secure” दिखाने लगा है | जिसे यूजर का साइट्स से ट्रस्ट हटने लगता है | जिसे आप निचे देख सकते है |

HTTP VS HTTPS on page seo

11. HTTP/2

जो HTTPS का एडवांस वर्शन है आपको अपने होस्टिंग प्रोवाइडर से बात करके HTTP/2 इनेबल करवा लेना चाहिए अगर आपका होस्टिंग सर्वर इसे सपोर्ट करता है | HTTP/2 के लिए हम एक अलग से आर्टिकल पोस्ट करेंगे जहा हम इसके एडवांटेज के बारे में जाने की कैसे ये आपके साइट को और कैसे बढ़ा देता है |

12. Responsive Web Design:

इसे आपका सर्वर सभी डिवाइस को सेम HTML code भेजता है CSS की सहायता से सभी डिवाइस में उसके स्क्रीन साइज के हिसाब से साइट को रेंडर कर देता है | Google’s algorithms Responsive Web Design को खुद ही डिटेक्ट कर लेता है अगर आपने सभी Googlebot user agents को allowed किया है अपने पेज के एसेट्स (CSS, JavaScript, and images) को क्रॉल करने के लिए |

Responsive Page Design on page seo

गूगल गाइडलाइन्स के हिसाब से आपको Responsive Web Design ही यूज़ करना चाहिए ना की मोबाइल के लिए अलग से वर्शन बनाना चाहिए | गूगल ज्यादा प्रेफरेंस Responsive Web Design को ही देता है | अपने साइट के रेस्पोंसिबनेस पर खास ध्यान दे क्यूंकि गूगल अब मोबाइल फ्रेंडली साइट्स से ज्यादा प्यार करता है की यूजर अब डेस्कटॉप से मोबाइल वर्शन पर शिफ्ट हो रहा है |

आप अपने ब्राउज़र को सिग्नल देने के लिए की आपकी साइट Responsive है निचे दिए कोड को HTML Head टैग में यूज़ करे |

<meta name="viewport" content="width=device-width, initial-scale=1.0">

13. Page Loading Speed:

गूगल guideliness से पेज लोडिंग टाइम 0.3 सेकंड्स से ज्यादा नहीं होना चाहिए | 57% यूजर 0.3 सेकंड्स से ज्यादा वेट नहीं करते है साइट ओपन होने का अगर साइट इसे ज्यादा टाइम लेती है ओपन होने मे तो यूजर दूसरे साइट पर मूव होने लगते है अपने आप को पेज और वेबसाइट स्पीड में कंफ्यूज ना करे दोने का मतलब एक ही होता है क्यूंकि जब आपकी साइट सर्च इंजन में दिखाई देती है तो उनके लिए ये एक पेज हे होता है |

Page Loading Speed on page seo

आप Google’s Page Speed Insights पर अपना Page Loading Speed चेक कर सकते है आप इसके और भी दूसरे टूल्स (GTMetrix) की हेल्प ले सकते है | अगर आपका पेज स्पीड सही है इसके लिए गूगल आपको कोई रिवॉर्ड तो नहीं देगा लेकिन slow स्पीड के लिए penalised जरूर कर देगा |

ये टॉपिक अपने आप में ही एक बहोत बड़ा टॉपिक है जिसके लिए हम कैसे Page Loading Speed को कम कर अलग से एक पोस्ट में समझेंगे |

14. User Friendly website:

एक User Friendly साइट्स होने के बोहोत से प्रॉफिट है जिसे बहोत से लोग इग्नोर कर देते है ये User Friendliness आपके यूजर इरेक्शन और सेल्स को कई गुना तक बढ़ा देते है | इसका मतलब सिर्फ ये नहीं है की आपकी साइट सिर्फ देखने में अच्छी हो साइट नेविगेशन और यूजर एक्सपीरियंस भी अच्छा होना चाहिए |

User Friendly website on page seo
User Friendly website मतलब जो आपका यूजर आपके साइट पर सर्च कर रहा है उसे quickly मिल जाना चाहिए | यूजर insights की सहयता से आपने साइट को और User Friendly बना सकते है |

इसके बाद हम Technical SEO को समझेंगे जिसे Advance SEO भी कहते है जो आपके साइट की रैंकिंग को कैसे जल्दी से बढ़ा सकती है और आपका साइट गूगल के Feature Snippets मे कैसे आ सकता है जो की बहोत ही इंट्रेस्टिंग होने वाला है Updates के लिए हमें Instagram या हमारे Telegram चैनल को Subscribe कर ले जो बिलकुल फ्री है |

अगर आपको लगता है कोई टॉपिक रह गया है जिसे जोड़ा जाना चाहिए हमें comment करके बातये हम पूरी कोसिस करेंगे उसे आर्टिकल में जोड़ने का | यहाँ तक आने के लिए आपका दिल से बहोत धन्यवाद |

This Post Has 7 Comments

  1. Vivek Vaishnav

    आपका ब्लॉग बहुत ही बढ़िया है और आपके लिखने का तरीका भी बहुत ही सहज और सिम्पल है मैं इससे बहुत प्रभावित हुआ। Seo के बारे में हिंदी में इतने बढ़िया आर्टिकल्स लिखने के लिए धन्यवाद!

    1. Psingh

      Vivek Vaishnav aapka bahot Dhanyawad humare blog ko aapka kimti time dene ke liye

  2. pradeep kumar

    Its really good knowledge about its SEO.

Leave a Reply